Attitude Shayari Status Image

Kisi roz kalam utha ke, ek panne par, Alfaz-e-jazbaat kuch aise bhar du, Ke saare rishte khatm kar, khud ko khuda kar du| किसी रोज़ कलम उठा के, एक पन्ने पर,अलफ़ाज़-ए-जस्बात कुछ ऐसे भर्दु,के सारे रिश्ते खत्म कर,खुद को खुदा करदूं। Yoon toh jis takht par hath rakha vo mera Read more…

Attitude Shayari in Hindi Text

Na taliyan rukein, aur na hi aansu, Aisi hi main maut chahta hoon| ना तालियां रुकें, और ना ही आँसू, ऐसी ही मैं मौत चाहता हूँ। Tuh khvaab mein bhi dikhti hai, Toh pehla jazbaat nafrat ka hota hai mera| तुह ख्वाब में भी दिखती है, तोह पहला जस्बात नफ़रत Read more…

Dosti Shayri in Hindi with Pics

Mohabbat mein gava baithe jo, Vo yaarian bohot azeez thi | मोहब्बत में गवा बैठे जो,वो यारियाँ बोहोत अज़ीज़ थी। Dushmano ka badal jana tumhari udaan batlata hai, Aur doston ka na badalna tumhari zamen dikhlata hai | दुश्मनो का बदल जाना तुम्हारी उड़ान बतलाता है, और दोस्तों का ना Read more…

Migrant Labourers - Fight against Coronavirus

Migrant Labourers – Fight against Coronavirus

Raasto mein kuchle jaate hain, Veeran sheher mein bhookhe mar jaate hain, Yeh gareeb hain sahib, Kise parwaah, Yeh ghar jaate hain, ya jannat jaate hain| रास्तो में कुचले जाते हैं, वीरान शहर में भूखे मर जाते हैं, यह गरीब हैं साहब, किसे परवाह, यह घर जाते हैं, या जन्नत Read more…

Dard Bhari Shayari with Photos

Ek umr se bhi zyada laga hamein Yeh sabar ka safar-e-manzil, Na tum hi laut kar aaye, Na hamein kisi aur se pyar hua | एक उम्र से भी ज़्यादा लगा हमें यह सबर का सफर-ए-मंज़िल, ना तुम ही लौट कर आये, ना हमें किसी और से प्यार हुआ। Uski Read more…

Attitude Shayari in Hindi

Attitude Shayari in Hindi

Mujhe mat dikhao yeh dhaar apni talwaar ki Maine mehaz alfazon se takht paltein hain मुझे मत दिखाओ ये धार अपनी तलवार की,  मैंने महज़ अल्फ़ाज़ों से तख़्त पलटे हैं।  Kuch aise bhi toofan hain andar mere jo khamosh bohot hain  कुछ ऐसे भी तूफ़ान हैं अन्दर मेरे,  जो खामोश Read more…

Love Shayari – Meri Har Kahani Mein

Meri har kahani mein zikar hai tumhara, main kaise tumhara kissa bhi nahi ? मेरी हर कहानी में ज़िक्र है तुम्हारा, मैं कैसे तुम्हारा किस्सा भी नहीं ? Jab jab kari tujhse hi kari kisi aur se teri shikayat jayaz hi nahi lagi humein।  जब जब करी तुझसे ही करी,  Read more…