Poetry is the escape we all seek when we get our hearts broken. Here is a beautifully written Dard Bhari Ghazal for you to try and find some closure.

Share these quotes and sayings images with your friends on Whatsapp, Facebook, Instagram and let them know how you feel.
Every quote and writeup here on our website are the original content of our generous authors.

Ghazal
Dard Bhari Ghazal
Hindi Ghazal

बस ये ही बताना था तुम्हे

की किसी दिन राह में टकरा जाऊ,

तो नजरें मत मिलना मुझसे,

कभी जुबान पर आ जाए नाम मेरा

भुला देना हमारा इतिहास -ए -इश्क,

तो

कभी सूनी रातों में मेरा मुख्तसर सा खफा होना

याद आ जाए

तो मत लिख बैठना एक और खत मुझे,

और किसी दिन उस बागीचे में

तुम्हे मेरी महक आए,

तो मत ढूंढना किसी फूल में मेरा स्पर्श,

तुम्हारी अलमारी में महफूज़ रखी हुई वो कमीज मेरी

कभी लग जाए हाथ तुम्हारे,

तो कर देना इंकार

की तुम भी संभाले रखती हो

हमारे मोहोब्बात के निशान,

और हा!

यूं ही किसी दिन मेरी पुकार तुम्हें सुनाई दे,

तो मुड़ना मत पीछे,

एक उमर लगी है मुझको

खुद को तुम्हारे बिना संभालने में,

तुम्हारा यूं मुख्तसर सा आके चले जाना

मुझे इस बार जीने नही देगा।।

by

CA Nitin Kaushik (Imaginary_Lands)

Click here to check out other quotes related to Love Shayari, Life Shayari, Motivational Shayari, Daily Shayari, Relationship Shayari and many more.

Follow Imaginary Lands Stories on all social networks, Youtube, Instagram, Pinterest and Facebook.

Check out more sher-o-shayari here!


0 Comments

Comment here