ऐ चाँद

ऐ चाँद ज़रा तू छुप जा कहीं
मेरा यार आने वाला है ,
तेरे नूर पे जो तुझे गुरूर है
वो अाज टूटने वाला हैं |
हाँ, माना की रौशन किया होगा जहान तूने
पर मेरी ज़िन्दगी में तो रौशनी वो लेकर आया है
तेरे नूर पे जो तुझे गुरूर है,
वो आज टुटने वाला है |
हाँ होती है ईद तेरे आने से ,
खुशियां छा जाती है तेरे दिख जाने से …
पर मेरा चाँद तो वो है और मेरी ईद उसके होने से ,
तेरा रंग तो सिर्फ एक है , वो हज़ारो रंग लाया है
तेरे नूर पे जो तुझे गुरुर है वो आज टुटने वाला है |
हाँ, माना की तेरी चांदनी केे किस्से बेशुमार हैं
माना की तेरी चांदनी केे किस्से बेशुमार हैं
पर दाग भी तुझमे हज़ार हैं
है उसकी अदा लाखों में जुदा और प्यार उसका बहुत लाज़वाब है |
है खामियाँ उसमे भी कुछ,
है खामियाँ उसमे भी कुछ,
पर उसकी खामियों से भी मुझे बेहद प्यार हैं |
उसे देख कर तो तू आज अपना वजूद भूलने वाला है
तू छुप जा कहीं .. तू रुक जा कहीं…
तू आज शर्माने वाला है…
तेरे नूर पे जो तुझे गुरूर है..वो अाज टूटने वाला हैं |

ऐ चाँद ज़रा तू छुप जा कहीं… मेरा यार आने वाला है … तेरे नूर पे जो तुझे गुरूर है..वो अाज टूटने वाला हैं |

Snehil Gupta

Follow her at @snehil_gupta_

Click here to check out posts of other contestants.


22 Comments

Pawan Verma · October 12, 2020 at 10:10

Shandaar

Comment here